Sai kasht nivaran mantra in hindi

Spirituality
शिर्डी साईं बाबा कष्ट निवारण मंत्र

सदगुरू साईं नाथ महाराज की जय
कष्टों की काली छाया दुखदायी है, जीवन में घोर उदासी लायी है l
संकट को तालो साईं दुहाई है, तेरे सिवा न कोई सहाई है l
मेरे मन तेरी मूरत समाई है, हर पल हर शन महिमा गायी है l
घर मेरे कष्टों की आंधी आई है,आपने क्यूँ मेरी सुध भुलाई है l
तुम भोले नाथ हो दया निधान हो,तुम हनुमान हो तुम बलवान हो l
तुम्ही राम और श्याम हो,सारे जग त में तुम सबसे महान हो l
तुम्ही महाकाली तुम्ही माँ शारदे,करता हूँ प्रार्थना भव से तार दे l
तुम्ही मोहमद हो गरीब नवाज़ हो,नानक की बानी में ईसा के साथ हो l
तुम्ही दिगम्बर तुम्ही कबीर हो,हो बुध तुम्ही और महावीर हो l
सारे जगत का तुम्ही आधार हो,निराकार भी और साकार हो l
करता हूँ वंदना प्रेम विशवास से,सुनो साईं अल्लाह के वास्ते l
अधरों पे मेरे नहीं मुस्कान है,घर मेरा बनने लगा शमशान है l
रहम नज़र करो उज्ढ़े वीरान पे,जिंदगी संवरेगी एक वरदान से l
पापों की धुप से तन लगा हारने,आपका यह दास लगा पुकारने l
आपने सदा ही लाज बचाई है,देर न हो जाये मन शंकाई है l
धीरे-धीरे धीरज ही खोता है,मन में बसा विशवास ही रोता है l
मेरी कल्पना साकार कर दो,सूनी जिंदगी में रंग भर दो l
ढोते-ढोते पापों का भार जिंदगी से,मैं गया हार जिंदगी से l
नाथ अवगुण अब तो बिसारो,कष्टों की लहर से आके उबारो l
करता हूँ पाप मैं पापों की खान हूँ,ज्ञानी तुम ज्ञानेश्वर मैं अज्ञान हूँ l
करता हूँ पग-पग पर पापों की भूल मैं,तार दो जीवन ये चरणों की धूल से l
तुमने ऊजरा हुआ घर बसाया,पानी से दीपक भी तुमने जलाया l
तुमने ही शिरडी को धाम बनाया,छोटे से गाँव में स्वर्ग सजाया l
कष्ट पाप श्राप उतारो,प्रेम दया दृष्टि से निहारो l
आपका दास हूँ ऐसे न टालिए,गिरने लगा हूँ साईं संभालिये l
साईजी बालक मैं अनाथ हूँ,तेरे भरोसे रहता दिन रात हूँ l
जैसा भी हूँ , हूँ तो आपका,कीजे निवारण मेरे संताप का l
तू है सवेरा और मैं रात हूँ,मेल नहीं कोई फिर भी साथ हूँ l
साईं मुझसे मुख न मोड़ो,बीच मझधार अकेला न छोड़ो l
आपके चरणों में बसे प्राण है,तेरे वचन मेरे गुरु समान है l
आपकी राहों पे चलता दास है,ख़ुशी नहीं कोई जीवन उदास है l
आंसू की धारा में डूबता किनारा,जिंदगी में दर्द , नहीं गुज़ारा l
लगाया चमन तो फूल खिलायो,फूल खिले है तो खुशबू भी लायो l
कर दो इशारा तो बात बन जाये,जो किस्मत में नहीं वो मिल जाये l
बीता ज़माना यह गाके फ़साना,सरहदे ज़िन्दगी मौत तराना l
देर तो हो गयी है अंधेर ना हो,फ़िक्र मिले लकिन फरेब ना हो l
देके टालो या दामन बचा लो,हिलने लगी रहनुमाई संभालो l
तेरे दम पे अल्लाह की शान है,सूफी संतो का ये बयान है l
गरीबों की झोली में भर दो खजाना,ज़माने के वली करो ना बहाना l
दर के भिखारी है मोहताज है हम,शंहंशाये आलम करो कुछ करम l
तेरे खजाने में अल्लाह की रहमत,तुम सदगुरू साईं हो समरथ l
आये हो धरती पे देने सहारा,करने लगे क्यूँ हमसे किनारा l
जब तक ये ब्रह्मांड रहेगा,साईं तेरा नाम रहेगा l
चाँद सितारे तुम्हे पुकारेंगे,जन्मोजनम हम रास्ता निहारेंगे l
आत्मा बदलेगी चोले हज़ार,हम मिलते रहेंगे बारम्बार l
आपके कदमो में बैठे रहेंगे,दुखड़े दिल के कहते रहेंगे l
आपकी मर्जी है दो या ना दो,हम तो कहेंगे दामन ही भर दो l
तुम हो दाता हम है भिखारी,सुनते नहीं क्यूँ अर्ज़ हमारी l
अच्छा चलो एक बात बता दो,क्या नहीं तुम्हारे पास बता दो l
जो नहीं देना है इनकार कर दो,ख़तम ये आपस की तकरार कर दो l
लौट के खाली चला जायूँगा,फिर भी गुण तेरे गायूँगा l
जब तक काया है तब तक माया है,इसी में दुखो का मूल समाया है l
सबकुछ जान के अनजान हूँ मैं,अल्लाह की तू शान तेरी शान हूँ मैं l
तेरा करम सदा सब पे रहेगा,ये चक्र युग-युग चलता रहेगा l
जो प्राणी गायेगा साईं तेरा नाम,उसको मुक्ति मिले पहुंचे परम धाम l
ये मंत्र जो प्राणी नित दिन गायेंगे,राहू , केतु , शनि निकट ना आयेंगे l
टाल जायेंगे संकट सारे,घर में वास करें सुख सारे l
जो श्रधा से करेगा पठन,उस पर देव सभी हो प्रस्सन l
रोग समूल नष्ट हो जायेंगे,कष्ट निवारण मंत्र जो गायेंगे l
चिंता हरेगा निवारण जाप,पल में दूर हो सब पाप l
जो ये पुस्तक नित दिन बांचे,श्री लक्ष्मीजी घर उसके सदा विराजे l
ज्ञान , बुधि प्राणी वो पायेगा,कष्ट निवारण मंत्र जो धयायेगा l
ये मंत्र भक्तों कमाल करेगा,आई जो अनहोनी तो टाल देगा l
भूत-प्रेत भी रहेंगे दूर ,इस मंत्र में साईं शक्ति भरपूर l
जपते रहे जो मंत्र अगर,जादू-टोना भी हो बेअसर l
इस मंत्र में सब गुण समाये,ना हो भरोसा तो आजमाए l
ये मंत्र साईं वचन ही जानो,सवयं अमल कर सत्य पहचानो l
संशय ना लाना विशवास जगाना,ये मंत्र सुखों का है खज़ाना l
इस पुस्तक में साईं का वास,जय साईं श्री साईं जय जय साईं l
 

IN ENGLISH

Kashton ki kali chaya dukhdayi hai, Jeewan me ghor udasi layi hai
Sankat ko talo sai duhai hai. Tere siwa na koi sahayi hai
Mere mann teri surat samai hai ,Har pal har kshan mahima gayi hai
Ghar mere kashton ki aandhi aayi hai,Aapne kyun meri sudh bhulayi hai
Tum bholenaath ho daya nidhan ho,Tum hanuman ho maha balwan ho
Tumhi ram aur shyam ho,Saare jagat mein tum sabse mahan ho
Tumhi mahakali tumhi maa shaarde,Karta hoon prarthna bhav se taar de
Tumhi mohhammad ho gareeb nawaz ho,Nanak ki vani mein eesa ke saath ho
Tumhi digambar tumhi kabir ho,Ho budh tumhi aur mahaveer ho
Saare jagat ka tumhi aadhar ho,Niraakar bhi aur saakar ho
Karta hu vandana prem vishwas se,suno sai allah ke vaste
adharo pe mere nhi muskaan hai,Ghar mera banne laga shamshan hai
Reham nazar karo ujre viran pe,Zindagi sawaregi ek vardan se
Paapo ki dhoop se tan laga haarne,Aapka ye das laga pukaarne
Aapne sada hi laaj bachayi hai,Der na ho jaaye man shankayi hai
Dheere dheere dheeraj hi khota hai, Man me basa vishwas hi rota hai
Meri kalpana saakar kar do,Sooni zindagi me rang bhar do
Dhote dhote paapon ka bhaar zindagi se, Main gaya haar zindagi se
Naath avgun ab to bisaaro,Kashton ki lehar se aake ubaaro
Karta hu paap main paapo ki khan hu, Gyani tum gyaneshwar main agyan hu
Karta hu pag pag par paapo ki bhool main,Taar do jeewan charno ki dhool se
Tumne ujda hua ghar basaya,Paani se Deepak bhi tumne jalaya
Tumne hi shirdi ko dhaam banaya,Chhote se gaon mein swarg sajaya
Kasht paap shrap utaro,Prem daya drishti se nihaaro
Aapka daas hu aise naa taaliye,Girne laga hu sai sambhaliye
Saiji balak main anaath hu,Tere bharose rehta din raat hu
Jaisa bhi hoon, hoon to aapka,Keeje nivaran mere santaap ka
Tu hai sawera aur main raat hoon,Mel nhi koi phir bhi saath hoon
Saiji mujhse mukh naa modo,Beech majhdaar akela na chodo
Aapke charno mein base pran hain,Tere vachan mere guru saman hain
Aapki raah pe chalta daas hai,Khushi nhi koi jeewan udas hai
Aansoo ki dhaara mein doobta kinaara,Zindagi mein dard , nhi guzaara
Lagaya chaman to phool khilaao,Phool khile hai to khushboo bhi laao
Kar do ishara to baat ban jaye,Jo kismat me nhi wo mil jaaye
Beeta zamana ye gaake fasana,Sarhade zindagi maut tarana
Der to ho gayi hai andher na ho,Fikr mile lekin fareb na ho
Deke taalo ya daaman bacha lo,Hilne lagi rehnumayi sambhalo
Tere dam pe allah ki shaan hai,Sufi santon ka ye bayan hai
Gareebon ki jholi me bhar do khazana,Zamane ke wli na karo bahana
Dar ke bhikhari hain mohtaaj hain hum,Shehenshahe aalam karo kuch karam
Tere khazaane mein allah ki rehmat,Tum sadguru saiji ho samarth
Aaye ho dharti pe dene sahara,Karne lage kyun humse kinaara
Jab tak ye brahmand rahega,Sai tera naam rahega
Chaand sitare tumhe pukaarenge,Janmojanam hum rasta nihaarenge
Aatma badlegi chole hazar,Hum milte rahenge baarambar
Aapke kadmo mein baithe rahenge,Dukhde dil ke kehete rahenge
Aapki marzi hai do ya na do,Hum to kahenge daaman hi bhar do
Tum ho data hum hain bhikhaari,Sunte nhi kyun araz hmari
Achchha chalo ek baat bta do,Kya nhi tumhaare paas bta do
Jo nhi dena hai inkaar kar do,Khatam ye aapas ki takrar kar do
Laut k khali chala jaaunga,Phir bhi gun tere gaaunga
Jab tak kaaya hai tab tak maaya hai,Isi mein dukhon ka mool samaya hai
Sab kuch jaan ke anjaan hu main,Allah ki tu shaan teri shaan hu main
Tera karam sada sabpe rahega,Ye chakra yug yug chalta rahega
Jo prani gayega saiji tera naam,Usko mukti mile pahuche param dhaam
Ye mantra jo praani nit din gaayege,Raahu ketu shaani nikat na aayenge
Tal jaayenge sankat saare,Ghar mein vaas Karen sukh saare
Jo shraddha se karega pathan,Us par dev sabhi ho prasann
Rog samool nasht ho jayenge,Kasht nivaaran mantra jo gaayenge
Chinta harega nivaran jaap,Pal mein door ho sab paap
Jo ye pustak nit din baanche,Shri lakhmi ji ghar uske sada viraaje
Gyan buddhi praani wo paayega,Kasht nivaran mantra jo dhyayega
Ye mantra bhakto kamal karega,Aayi jo anhoni to taal dega
Bhoot prêt bhi rahenge door,Is mantra mein sai shakti bharpoor
Japte rahe jo mantra agar,Jaadu tona bhi ho be-asar
Is mantra mein sab gun samaye,Na ho bharosa to aazmaye
Ye mantra saiji vachan hi jaano,Swayam amal kar satya pehchaano
Sanshay na laana vishwas jagana,Ye mantr sukhon ka hai khazana
Is pustak mein sai ka vas,Jai sai shri sai jai jai sai…
OM SAI RAM !!!
SHREE SACHIDANAND SATGURU SAINATH MAHARAJ KI JAI….

Leave a Reply